कवि!
तुम अपने 
शब्दों को 
कसौटी पर 
इतना कसना 
कि जब हथियार की तरह 
उन्हें शत्रु पर चलाओ 
तो वह धराशायी हो जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here